rekhasahay.wordpress.com
हौसला
ऊपर वाले तुमसे ना कहें तो किससे कहें ? तुमने ऐसा बनाया है हमें. अक्सर भूलने वाली बातें याद रहतीं हैं. याद रखनेवाली भूल से जातें हैं. जब कभी हौसला हार जायें कोई तो चाहिए सम्भलने वाला .…