rekhasahay.wordpress.com
बूँदें
बारिश की झमाझम बरसती बूंदों से पूछा – क्यों इतने ऊपर जाकर वापस नीचे आती हो ? हँसकर कहा बूंदों ने – यह तो धरती को चूमने की ख़्वाहिश है….. जो हमें खींच लाती है .…