rekhasahay.wordpress.com
ख़्वाबों के बादल
खो गई खुशियों की नादियाँ, दर्द के समंदर में जा कर. निकलेगा क्या वहां से कोई बादल कुछ हसीन ख्वाब लेकर?…