rekhasahay.wordpress.com
जिंदगी के रंग -145
अब क्या लिखें कि तुम्हारे जाने से क्या हुआ ? अब क्या बताएँ कि तुम्हारे मिलने से क्या हुआ था? खंडित काव्य में व्यक्त आधा अधूरापन सा, हवाओं ने बदला रूख जीवन यात्रा का। तितिक्षा से&#82…