rekhasahay.wordpress.com
ज़िंदगी के रंग -133
सम्भालते संभालते , संभलते-सम्भलते , लगता है जैसे ……. हवा का झोंका आया और फिर सब बिखर गया . सूखी मृत पत्तियों की तरह .…