rekhasahay.wordpress.com
चिड़ियों कें घोंसलों पर रोक
अजीब सी रोक पंछियों के चहचहाने से गुलजार था सारा माहौल तभी आवाज आई – अपने घरों से तो तुमने हमें निकाल दिया है। अब बेदखल कर रहे हो पेङों से। हम जाएं तो जाएं कहां ? तुम तो बंधे हो बंधन में -देश…