rekhasahay.wordpress.com
ज़िंदगी के रंग -130
रेशम के कीटों की तरह हम सब भी एक ककून या एक खोल बना लेते हैं . आराम देह ज़िंदगी जीने की ख़्वाहिश में. रेशम बुन उसके नरम तहों में क़ैद हो जाते हैं, ज़िंदगी परिवर्तन का दूसरा नाम है यह भूल कर . यह भू…