rekhasahay.wordpress.com
एक जैसा
आँखों की कोरों पर अटके आश्रु कण, और पत्तों के कोरों पर अटके ओस बिंदु क्या दोनों का एक जैसा कोई दुःख हैं.…