rekhasahay.wordpress.com
ज़िंदगी के रंग -125
चाहो या ना चाहो ख़ालीपन का एहसास कई अनुत्तरित प्रश्न अस्तित्व में आतें है. जो धुंध में, गहरी छिपी होती है कि किसी का जाना ……दुनिया से, लुप्त रोशनी नहीं , कई विचारों की शुरुआत है . क़ैद …