rekhasahay.wordpress.com
पसंदीदा खिलौना
ऊपरवाले, क्यों सारे इम्तिहान मेरे हीं लिये? जिंदगी सबक सिखने के लिये कम है क्या? क्या हम तुम्हारे पसंदीदा खिलौना हैं ? रोज़ खेलते, रोज़ तोङते-जोड़ते हो? जवाब आया – क्या करुँ, तु भ…