rekhasahay.wordpress.com
हिज्र
आई होगी किसी को हिज्र में मौत मुझ को तो नींद भी नहीं आती ~अकबर इलाहाबादी. हिज्र – विछोह।…