rekhasahay.wordpress.com
एक राह
एक राह दिख गया गुलाबों की पंखुड़ियों भरा !! चल दिए उसपर , भूल कर कि गुलाबों में काटें भी होते हैं…….. काटों की कसक आज भी है.…