rekhasahay.wordpress.com
बड़ी देर कर दी
हमने खोजा , बड़ी आवाज़ें दीं. हर सदा गूँज बन कर वापस आ गई . तुमने आने में बड़ी देर कर दी . यह ज़िंदगी अपनी हीं नहीं रही. तुम्हें कहाँ शामिल करे ?…