rekhasahay.wordpress.com
ज़िंदगी के रंग-91
हम किसी का हिस्सा बन गए , पर सामने वाले ने जाना हीं नहीं …. माना हीं नहीं …. सवालों भरी इस राह पर गर ये कहे कि, मेरे सवालों का जवाब तुम हो . तो भी क्या फ़ायदा ?…