rekhasahay.wordpress.com
यादें
चाहो या ना चाहो ये यादें साये की तरह लिपटी रहती है . बग़ैर इजाज़त तुम्हें याद करने की गुस्तखियों के लिए तहे दिल माफ़ी की गुज़ारिश है. .…