rekhasahay.wordpress.com
ख्वाहिशें कम हों तो
ख्वाहिशें कम हों, तो आ जाती है नींद पत्थरों पर भी, वरना बहुत चुभता है, मखमल का बिस्तर भी. Unknown…