rekhasahay.wordpress.com
नुक़्स
उम्र जाया कर दी लोगों ने औरों के वजूद में नुक़्स निकालते- निकालते. इतना ख़ुद को तराशा होता तो फ़रिश्ते बन जाते . — गुलज़ार…