rekhasahay.wordpress.com
जिंदगी के रंग – 52
अपने अंदर की आग हीं मोमबत्ती को जलाती गलाती और रूलाती है . पर जलते हुए यह राह रोशन कर जाती है .…