rekhasahay.wordpress.com
यह बयार
यह बयार गजब ढातीं हैं कभी बुझती राख की चिंगारी को हवा दे आग बना देतीं है। दिल आ जाये तो , खेल-खेल में जलते रौशन दीप अौ शमा बुझ देती है…