rekhasahay.wordpress.com
रंग बदलता सूरज
सुबह का ऊगता सूरज, नीलम से नीले आकाश में, लगता है जैसे गहरे लाल रंग का माणिक…..रुबी…. हो, अंगूठी में जङे नगीने की तरह। दूसरे पहर में विषमकोण में कटे हीरे की तरह आँखों को चौंधियाने लग…