rekhasahay.wordpress.com
आँसू अौर मुस्कान
कुछ हँस कर, कुछ रो कर झेलते हैं। दुःख सहने का अपना- अपना तरीका होता है। क्या अच्छा हो, गर आँखों में आँसू पर होंठों पर मुस्कान हो। Image from internet.…