rekhasahay.com
चेहरा नहीं तो भाग्य तो सुन्दर होता (कविता)
मेरी पाँच कविताएँ / My 5 Poems Published in She The Shakti, Anthology– POEM 1 वह कभी आइने में अपना सुकुमार सलोना चेहरा देखती कभी अपनी माँ को। दिल में छाले, सजल नेत्र, कमसिन वयस, अल्पशिक्षित क…