rashidfaridi.com
Happy Sir Syed Day: Hindi Transcript of Complete Nazm of Majaz Titled “nazr-e-aligarh”- Later Abridged and Adopted as AMU Tarana
ये मेरा चमन है मेरा चमन, मैं अपने चमन का बुलबुल हूँ सरशार-ए-निगाह-ए-नरगिस हूँ, पा-बास्ता-ए-गेसू-संबल हूँ हर आन यहाँ सेहबा-ए-कुहन एक साघर-ए-नौ में ढलती है कलियों से हुस्न टपकता है, फूलों से जवानी उब…