prempriya.wordpress.com
कुछ दिल ने कहा…
कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं… ऐसी भी बातें होती हैं, कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं… लेता है दिल अंगड़ाइयां, इस दिल को समझाये कोई अरमान ना आँखें खोल दें, रुसवा ना हो जाये कोई पलकों की ठंडी स…