prasadkulkarni.wordpress.com
कल का सूरज…
सब्र करेंगे रातभर, ये अंधेरा ढलनेका, कल का सूरज क्या लाएगा, किसे है पता? * * * क्या होगी धूप कल, या छाँव में दिन गुजरेगा, कल का दिन क्या दिखायेगा, किसे है पता? * * * रास्ता होगा ख़त्म, या चलती जाएँ…