prasadkulkarni.wordpress.com
दो मिनिट की चाहत…
इम्तिहान का समय, आंखरी कुछ पंक्तियाँ, कागज़ खत्म हो जायेंगे, पर दो मिनिट की चाहत, कभी खत्म नहीं होगी * * * सुबह का वक़्त, घडी की ललकार, जगाने की कोशिशें थक जाएगी, पर दो मिनिट की चाहत, कभी खत्म नहीं ह…