medhavisingh.com
आखर
आखर आखर, मिलकर शब्द बने, शब्द से वाक्य बने, जब आखर अखरे, जब शब्द बिखरे, तब वाक्य, विष बुझे बाण बने, क्या लिखूं, फैला विष जब, देह में, रहा ना अछूता, कोई अंग, हृदय था कोमल, निर्मल सा, जला विष से , हु…