madhureo.com
VIJETA/विजेता - Madhusudan Singh
Image Credit : Google है कर्मभूमि कर कर्म सदा कर्मठ की धरा हमेशा है, सब भाग्य बदलते कर्मो से,हम सबमें एक विजेता है। तुम याद करो राणा,प्रताप, शिवाजी,पोरस वीरों को, भय भी भयभीत रहा उनसे प्रणाम किया रणधीरों को, उठ जाग रगों में रुधिर वही,तुम भी मार्तण्ड का बेटा है, सब भाग्य बदलते कर्मो से,हम …