madhureo.com
MUKHAUTA/मुखौटा - Madhusudan Singh
Image Credit : Google एक खालीपन दिखता है तेरे शोर में, तुम बदल मुखौटे आते हो, पास आकर के मुस्काते हो, आँखों में अश्क छुपा कर के, तुम हम से प्रीत जताते हो, सब दिख जाते गम छिपे तुम्हारे लोर में, एक खालीपन दिखता है तेरे शोर में।1। तूने अबतक ना जाना, ना हमको तूँ …