madhureo.com
MAIN MAZDOOR HUN/मैं मजदूर हूँ - Madhusudan Singh
Image Credit : Google मैं मजदूर हूँ, छोड़ आया गाँव फिर भी खुशियों से दूर हूँ, मैं मजदूर हूँ। हक किसे कहते,अधिकार नही जानते, ख्वाहिशें तो हैं पर सम्मान नहीं जानते, शहर चकाचौंध बीच रौशनी से दूर हूँ, मैं मजदूर हूँ। भूख बिन बोले मेरे पास चली आती, रूखा,सूखा कहते किसे समझ नहीं आती, पानी,भात,प्याज …