madhureo.com
MAA BHARTI PUKARTI/माँ भारती पुकारती - Madhusudan Singh
Image Credit :Google जाति की लड़ाई,धर्म,क्षेत्रवाद भारी,स्वार्थ फिर से खड़ा है इतिहास दोहराने को, अब भी लाचार पोरस,दाहिर,राणा और चौहान,मान,जयचंद फिर अड़े हैं सब मिटाने को। जात-पात की ये जंग,क्षेत्र,धर्म मे हैं अंध,भूल गए बेड़ियाँ लगी सहस्त्रों साल की, फिर से घमंड वही झूठी अहंकार,स्वार्थ,दूसरे को नीच खुद श्रेष्ठतम दिखाने की। भेद जाति,धर्म का मिटाने …