madhureo.com
Jivan ki daud/जीवन की दौड़ - Madhusudan Singh
Images Credit :Google जीवन की नौका ये हौले-हौले चलती जाए रे, सागर सी दुनियाँ की लहरों से ये लड़ती जाए रे, जीवन की नौका ये हौले-हौले चलती जाए रे।। बालपना में समझ सके ना क्या है दुनियाँदारी, छोटी ताल,तलैया जैसी अपनी दुनियाँ सारी, आँख खुली तो देखा एक पगली सी संग में रहती है, खुद …