madhureo.com
Dhwani Pradhshan/ध्वनि प्रदूषण - Madhusudan Singh
Image credit: Google धर्मांध में देखो शोर बढ़ा, ध्वनि राक्षस चहुँओर बढ़ा, अब और न इंसाँ खुद का कब्र बना रे, आ मंदिर,मस्जिद,चर्च और गुरुद्वारे, सब धर्मस्थल से ध्वनि यंत्र हटा रे।। क्यों अंधा बना जहान, बनाता जन्नत को श्मशान, जोड़ हर बस्तु को धर्मो से, लड़ता है सारा इंसान, बस अब और न बहरा …