madhureo.com
Kashmakash - Madhusudan Singh
जिंदगी जंग है,जंग है जिंदगी, क्या करे ना करे तंग है जिंदगी, है अनेक रास्ते एक को ढूंढता, जब से दुनिया में हैं रास्ते चुनता, हम समर्पण करें या लड़े जिंदगी, क्या करे ना करे तंग है जिंदगी | बात खाने की हो ब्यंजने हैं कई, धर्म,जाति कहें तो यहां हैं कई, शासनों के कई …