madhureo.com
CHALLAN AUR GAON/चालान और गाँव - Madhusudan Singh
Image Credit : Google रहम ना जाने नियम,लोभ भी,अब बचना दुस्वार बा, सम्हल के जईहे बबुआ आगे तत्तपर हवलदार बा। बा-मुश्किल दोपहिया टूटल, लेकर रखनी द्वार पर, कभी कभी हमहूँ इतराएब, चढ़ के अपन जहाज पर, अरमां सब मन में कुम्हिलाईल अब कैसे ससुरारी जाईब, कैसे दुलहिन हाट घुमाईब,सांसत में ई प्राण बा, सम्हल के …