madhureo.com
Apnaapan - Madhusudan Singh
Image Credit :Google प्रेम हमने किया,तुमको दिल दे दिया, तुम कहाँ हो तेरे बिन ना लागे जिया, दर्द कितना दिया दिल में बस के, क्या मिला तुमको राहें बदल के। हम अकेला थे दुनियाँ हँसी थी, गर्म रेतों में भी कुछ नमीं थी, तुम पवन बन चले,साथ लेकर उड़े, छोड़ अपनों को हम,तेरे संग चल …