literatureinindia.com
नहान – अरुण प्रकाश
मैं जब उस मकान में नया पड़ोसी बना तो मकान मालिक ने हिदायत दी थी – “ बस तुम नहान से बच कर रहना। उसके मुंह नहीं लगना। कुछ भी बोले तो ज़ुबान मत खोलना। नहान ज़ुबान की तेज़ है। इस मकान में क…