literatureinindia.com
अधूरे प्रेम की पूरी दुनिया – अंकिता रासुरी
ओ मेरे साथी तुम मुझे बहुत अच्छे लगते हो मैं कर सकती हूँ तुमसे अधूरा प्रेम क्योंकि बहुत कुछ घट जाने के बाद अधूरा हिस्सा ही बचा रह सकता है किसी के जीवन मे पर मैं अब करना भी नहीं चाहती पूरा प्रेम मैं …