literatureinindia.com
बिटिया बड़ी हो गयी – अंजना बख्शी
देख रही थी उस रोज़ बेटी को सजते-सँवरते शीशे में अपनी आकृति घंटों निहारते नयनों में आस का काजल लगाते, उसके दुपट्टे को बार-बार सरकते और फिर अपनी उलझी लटों को सुलझाते हम उम्र लड़कियों के साथ हँसते-खिल…