kmsraj51.com
वादा खुद से कर के निकले हैं। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ वादा खुद से कर के निकले हैं। ϒ वादा खुद से कर के निकले हैं। अब कदम रुक सकते नहीं। लक्ष्य हासिल किये बिना… थक के बैठ सकते नहीं। विपत्ति का सामना जो हंस के कर पायेगा। जग में उसी का नाम रह जाएगा। तपने उपरान्त सोने की पहचान बनती है। सतत परिश्रम …