kmsraj51.com
यह जीवन भी पारस मणि समान है। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ यह जीवन भी पारस मणि समान है। ϒ एक था कृपण और एक थे सिद्ध पुरुष। कृपण बार-बार सिद्ध के पास जाता और कोई बड़ी धनराशि दिलाने के लिए गिड़गिड़ाया करता। सिद्ध पुरुष को मौज आ गई। उनने झोली से निकाला पारस पत्थर और उसे कृपण के हाथ में पकड़ाते हुए कहा, “यह …