kmsraj51.com
प्रथम गुरु माता। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ प्रथम गुरु माता। ϒ प्रथम गुरु माता – Pratham guru mata महर्षि वेदव्यास जी के अनुसार ….. “पितुरप्यधिका माता गर्भधारणपोषणात् । अतो हि त्रिषु लोकेषु नास्ति मातृसमो गुरुः”॥ गर्भ को धारण करने और पालनपोषण करने के कारण माता का स्थान पिता से भी बढकर है। इसलिए तीनों लोकों में माता के समान कोई …