kmsraj51.com
होके मायूस यू ना शाम की तरह ढलिये। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ होके मायूस यू ना शाम की तरह ढलिये। ϒ होके मायूस यू ना – शाम की तरह ढलिये। ज़िन्दगी एक भाैर है – सूरज की तरह निकलिये। ठहरोगे एक पाँव पर – तो थक जाओगे। धीरे धीरे ही सही – अपनी राह पर चलते रहिये। मंजिल मिल ही जायेगी। अपने आप धीरे …