kmsraj51.com
किस्मत अपनी-अपनी है। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ किस्मत अपनी-अपनी है। ϒ कभी-कभी मंजिल सामने खड़ी रहती है। तो कभी-कभी मंज़िल ढूँढने में ज़माने बीत जाते है। किसी ने आँख खोली सोने की नगरी मे। ताे किसी को घर बनाने में ज़माने बीत जाते है। कभी-कभी रात लगती है कुछ पलों की, तो – कभी सारी रात कटती है जाग-जाग कर। …