kmsraj51.com
बतिया -रतियाँ। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ बतिया -रतियाँ। ϒ “बतिया-रतियाँ “ बतिया आधी-आधी रतिया। जगावय के आइल। हल्दी दूध काजू किसमिस। पिलावय के आइल। रात एक बजे से ही वह- दुलारावे के आइल। घरवा के लोग कहेन कि- निंदिया कहाँ गइल? अपने त अपने जागेला। जीवन बेकार भइल। पानी-चाय मागेला। पकावे के गइल। कविता-लेख लिख-पढ़, मन बह्लावल गइल। कम्प्यूटर …