kmsraj51.com
सब बँधे है स्वार्थ के धागे से। ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. ϒ सब बँधे है स्वार्थ के धागे से। ϒ कोई किसी का सच्चा- हमसफ़र नही। सब बँधे है स्वार्थ के धागे से। ना रख कोई उम्मीद जमाने से। कि कोई तूझे ख़ुशियाँ देगा। कोई साथ आता नही कोई- साथ जाता नही। ढूँढ ले अपना रास्ता खुद ही। जीवन मे आगे बढने के लिये। मिलेगी …