kmsraj51.com
मेरी याँदे ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
Kmsraj51 की कलम से….. शाम सवेरे तेरे बांहों के घेरे , बन गए हैं दोनों जहाँ अब मेरे क्या मांगू ईश्वर से पा कर तुझे मैं क्या सबको मिलता है ऐसा दीवाना फिर लौट आएगा वो गुजरा ज़माना । चले जाते ऑफिस, कैसी ये मुश्किल तुम बिन कुछ में भी नहीं लगता दिल मेरे पास बैठो, …