kmsraj51.com
खुशियां- हिन्दी कविता !! ⋆ KMSRAJ51-Always Positive Thinker
::-Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. खुशियां !! मुझे थोड़ी सी खुशियां मिलती हैं और मैं वापस आ जाता हूं काम पर जबकि पानी की खुशियों से घास उभरने लगती है और नदियां भरी हों, तो नाव चल पड़ती है दूर-दूर तक। वहीं सुखद आवाजें तालियों की प्रेरित करती है नर्तक को मोहक मुद्राओं में थिरकने को …