kavya-sharma.com
हाँ ना-समझ हूँ मैं..!!
हँसलो, प्यार से बोल लो, किसी के लिए कितना भी कर लो.. अकसर लोग मतलब निकलने पर, पराया महसूस करवा ही देते हैं.. ऐसा ही लगता है मुझे आज, क्योंकि, जब जब हसँती थी मैं, तो साथ हसँते थे वो लोग, जिन्हे आपना…