kavitasangrahonline.com
उसका
राम उसका रावण भी उसका फिर भी संसार का भाव नहीं उसका, जीवन उसका मरण भी उसका इंसान की समझ में अस्तित्व नहीं उसका, तांडव उसका ध्यान भी उसका योग और अभ्यास का सार नहीं उसका, ज्ञानियों का ज्ञान उसका, प्र…